Goldfish ka Scientific Naam Kya hai? | जाने गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

Rate this post

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है: क्या आप जानते है की Goldfish ka Scientific Naam kya hai इस समय बहुत से लोग इस टॉपिक (गोल्डफिश) के बारे में सर्च कर रहे है. लेकिन उनको सही जानकारी पूरी तरह से नहीं मिल रहा है क्यों की Goldfish के बारे में बहुत कम लेख हिंदी में उपलब्ध है.

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम एक ऐसा प्रश्न है जो सभी प्रकार के परीक्षाओं में पूछा गया है. Goldfish मछली को हिंदी में सुनहरी मछली के नाम से जाना जाता है कई बार परीक्षाओं (Exams) में ऐसे भी पूछा गया है की, सुनहरी मछली का वैज्ञानिक नाम क्या है.

अगर आप भी यह जानने के लिए उत्सुक है की गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है, गोल्डफिश मछली किस प्रजाति की है या गोल्डफिश मछली कहाँ पाई जाती है, तो इस लेख को पूरा पढ़े गोल्डफिश से जुड़े सभी सवालो के जवाब आपको यहाँ हिंदी में मिल जायेंगे.

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है | Scientific Name of Goldfish in Hindi

Goldfish ka Scientific Naam kya hai
गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

दुनिया भर में अपनी सुंदरता के लिए प्रसिद्ध मछली जिसे हम और आप गोल्डफिश के नाम से जानते हैं इसके अलावा इसे सुनहरी मछली भी कहा जाता है. गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम कैरासियस ऑराटस है तथा गोल्डफिश का हिंदी साइंटिफिक नाम भी कैरासियस ऑराटस ही है.

गोल्डफिश का एक और नाम भी है इसे गोल्डन क्रूसियन कार्प भी कहा जाता है तथा हिंदी में “सुनहरी मछली” के नाम से जाना जाता है गोल्ड फिश मछली की उत्पत्ति चीन में हुई और इसका इतिहास लगभग 1700 वर्षो के अधिक का है.

Goldfish वही मछली है जिसे हम सभी लोग एक्वेरियम में देखते है यह अक्सर किसी होटल, रेस्टोरेंट,घरो तथा दफ्तरों में देखने को मिल जाती है यह मछाली एक्वेरियम मछली के रूप में बहुत ही लोकप्रिय है.

अगर आप इसे Google पर बोल के सर्च करना चाहते है तो आप गूगल से कुछ इस प्रकार से बोल सकते है जैसे – Ok Google Goldfish ka Scientific naam kya hai ?

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम (वर्गीकरण)

गोल्डफिश का वैज्ञानिक नाम (Scientific Name)कैरासियस औराटस (Carassius auratus)
Goldfish का लैटिन नामकैरासियस गिबेलियो फॉर्मा ऑराटस
गोल्डफिश का हिंदी नामसुनहरी मछली
अन्य नाम गोल्डन क्रूसियन कार्प (Golden crucian carp)
वंशकैरासियस
जाति ऑराटस
निवाश स्थानमीठा पानी
गोल्डफिश की उम्र (Age)5 से 6 साल
PH रेंज (Potential of Hydrogen)6.5 से 8.5
आकार20 Cm
वजन3 किलो तक
भोजनशैवाल,लार्वा,कीट इत्यादि
मूल श्रोतचीन

गोल्डफिश का इतिहास | History of Goldfish

गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

गोल्डफिश कार्प परिवार का एक अपेक्षाकृत छोटा सदस्य है, गोल्ड फिश मछली जिसे हम सुनहरी मछली के नाम से जानते हैं उसे पहली बार चीन में पाला गया था तथा माना जाता है की गोल्डफिश की खोज सर्वप्रथम 17वी शताब्दी में यूरोप में हुई थी.

Goldfish कैसे वातावरण में रहती है

गोल्डफिश एक नरम स्वभाव की मछली है ये अनुकूल वातावरण में रहती है कुछ लोगो का यह मानना है की गोल्डफिश के लिए 18 से 26 डिग्री सेल्सियस के बीच पानी का तापमान अनुकूल होता है जिसमे न ज्यादा गर्मी और न ही ज्यादा ठंडी होती है. अगर पानी का तापमान ज्यादा हुआ तो गोल्डफिश मछली (सुनहरी मछली) की मर जाती है

वैसे तो गोल्डफिश का एक्वेरियम के अन्दर का जीवन काल लगभग 7-8 वर्ष तक का देखा गया है लेकिन, अगर गोल्डफिश को एक अनुकूल वातावरण के साथ-साथ मीठा पानी का श्रोत मिले तो गोल्डफिश और अधिक वर्षो तक जीवित रह सकती है.

Goldfish का आकर कैसा होता है

Goldfish मछली का उपयोग सजावटी मछली के रूप में भी किया जाता है और इसका शरीर लंबा तथा पंख छोटा होते हैं इनका शरीर काफी आकर्षक और सुंदर होता है जिसे बार-बार देखने को मन करता है.

गोल्डफिश करीब 8 इंच तक लंबे होते हैं तथा इसके शरीर के रंग लाल, पीले, नीले, बैंगनी, काले, सफेद, तथा रंग बिरंगे होते हैं. गोल्डफिश को सबसे पहले पालतू बनाने वाला देश चीन है ये मछली इतनी प्यारी होती है की इसे कोई खाना पसंद नहीं करता है.

Goldfish कितने प्रकार की होती है

हमने ऊपर के लिख में पढ़ा की गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है, Goldfish कैसे वातावरण में रह सकती है, उसका आकार कैसा होता है तथा वह कितने सालो तक जीवित रहती है. अब जानेंगे की Goldfish कितने प्रकार की होती है वैसे तो गोल्डफिश की की अलग-अलग क्सिमे होती है यहाँ हम सभी के बारे में थोड़ी- थोड़ी जानकारी देने वाले है.

आम सुनहरीमछलीकाले मूर
बब्ल आईदिव्य आंखें (सेलेस्चिय्ल आई)
धूमकेतु (कोमेट)(सुनहरीमछली)फैनटेल (पंखे नुमा पूंछ वाली)(सुनहरीमछली)
सिंह मस्तिष्क (लायनहेड)(सुनहरीमछली)ओरानडा
पर्लस्केलपोमपोम (सुनहरीमछली)
रयुकिनशुबनकिन
दूरबीन आंख (टेलिस्कोप आई)रैनचु
पांडा मूरवेलटेल
तितली पूंछ (बटरफ्लाई टेल)(सुनहरीमछली)
गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है

आम सुनहरीमछली – आम सुनहरीमछली अपने पूर्वज प्रशिया कार्प से केवल रंग में अलग होती हैं आम सुनहरीमछली विभिन्न रंगों में पाए जाते हैं जिसमे लाल, नारंगी, सफेद, काले और पीले या ‘नींबू’ रंग शामिल है इसे ही गोल्डफिश कहा जाता है.

काले मूर – काले मूर सुनहरीमछली की एक दूरबीन-आखों वाली प्रजाति है जिसकी उभड़नेवाली आंखे उसकी विशेषता है उसे पोपाये टेलिस्कोप, जापान में कुरो डेमिकिन और चीन में ड्रैगन-आई के नाम से जाना जाता है.

बब्ल आई – छोटा, फैंसी बब्ल आई के पास ऊपर की ओर इशारा करती हुई आंखें हैं और उसके साथ दो बड़े द्रव्य-भरी थैलियां भी है

दिव्य आंखें (सेलेस्चिय्ल आई) – सजावटी सेलेस्चिय्ल आई सुनहरीमछली या चोटेन गान एक दोहरी दुम वाला और एक नस्ल-परिभाषित करने वाली ऊपर की ओर पलटी, दूरबीन आखों वाली मछली है जिसकी पुतलियां आकाश की ओर देखती हुई हैं.

धूमकेतु (कोमेट)(सुनहरीमछली) – धूमकेतु या धूमकेतु-पूंछ वाली सुनहरी मछली संयुक्त राज्य अमेरिका में पाए जाने वाली सबसे आम प्रजाति है थोड़ी पतली या छोटी होने के आलावा, यह आम सुनहरीमछली के समान ही है और यह मुख्य रूप से अपनी लंबी और गहरी कांटे समान पूंछ के कारण अलग से पहचानी जाती है.

फैनटेल (पंखे नुमा पूंछ वाली)(सुनहरीमछली) – फैनटेल सुनहरीमछली रयुकिन का पश्चिमी रूप है और इसके पास एक अंडे के आकार का शरीर, एक उच्च पृष्ठीय पंख, एक लंबी चौगुनी, पूंछ है और इसके कंधे पर कोई उभार नहीं है.

सिं ओरानडा – सजावटी ओरानडा की विशेषता प्रमुख रूप से एक रास्पबेरी-जैसी हुड है (जिसे वेन या सिरवृद्धि के नाम से भी जाना जाता है) और जो आंखें और मुह को छोड़ कर पुरे सिर को ढके हुए रहता है.

पर्लस्केल – सजावटी पर्लस्केल या जापानी भाषा में चीनशुरिन का शरीर-गोलाकार और जिसकी पूंछ फैनटेल के समान है.

पोमपोम (सुनहरीमछली) – सजावटी पोमपोम्स या पोम्पोन या हाना फुसा के नाक के बीच में और सिर के दोनों तरफ खुले मांसल बाहरी ओर उगे हुए रेशों के गुच्छे होते हैं.

शुबनकिन – सजावटी और साहसी जापानी Shubunkins (जिसका शाब्दिक अनुवाद “लाल ब्रोकेड”) की nacreous स्केलों के साथ एक पूंछ है और शरीर पर कैलिको नामक एक आकृति है.

दूरबीन आंख (टेलिस्कोप आई) – सजावटी दूरबीन आंख या डेमेकिन की विशेषता है उसकी उभड़नेवाली आखें. इसे ग्लोब आई या ड्रेगन आई सुनहरीमछली के नाम से जानी जाती है.

पांडा मूर – सजावटी पांडा मूर का काली और सफेद आकृति और उभड़नेवाली आंखे उसकी विशेषता है.

वेलटेल – सजावटी वेलटेल अपने अतिरिक्त लंबे, लहराते दोहरे पूंछ के कारण जाना जाता है आधुनिक वेलटेल मानकों को पूंछ के निकले हुए किनारों के अभिस्थापन की थोड़ी या बिलकुल भी आवश्यकता नहीं होती, जैसा जी एक दुल्हन के विवाह की चुनरी में होती है.

तितली पूंछ (बटरफ्लाई टेल)(सुनहरीमछली) – तितली पूंछ मूर या तितली टेलीस्कोप दूरबीन आंख वाले वंश का हिस्सा है, उसके जुडवा पूंछ ऊपर से देखे जाने पर सबसे बेहतरीन लगते हैं. पूंछ का फैला हुआ पंख पानी के नीचे की तितलियों की नकल करती हुई प्रतीत होती है.

गोल्डफिश से जुड़े रोचक तथ्य | Amazing Fact Of Goldfish

  • Godfish मछली सबसे अधिक चीन में पाई जाती है.
  • इस मछली की पलके नहीं होती है यह आंखे खोल कर सोती है.
  • गोल्डफिश बिना कुछ खाये 2 सप्सेताह अधिक समय तक जीवित रह सकती है.
  • Goldfish किसी तालाब तथा मीठे पानी में 35 से 40 सालों तक जीवित रह सकती है.
  • गोल्डफिश की याददाश्त (स्मरण शक्ति) बहुत ही अधिक होती है.
  • पालतू मछली में गोल्डफिश सबसे ज्यादा लोगप्रिय है.

Goldfish से जुड़े अन्य महत्वपूर्ण सवाल और जवाब

Goldfish ka Scientific Naam Kya hai?

Goldfish ka Scientific Naam Carassius Auratus.

Goldfish को हिंदी में क्या कहते है?

Goldfish को हिंदी में सुनहरी मछली कहते है.

गोल्डफिश कहाँ पाई जाती है?

Goldfish ज्यादातर चीनी तालाबों में तथा एक्वैरियम में पाई जाती है यह अक्सर होटल, शोरूम, ऑफिस, तथा घरो में देखने को मिल जाता है.

Goldfish मछली क्या खाती है?

गोल्सुडफिश अर्थात सुनहरी मछली सर्वाहारी होती हैं वह पौधों के अलावा, वे सामान्य मछली खाती हैं उन्हें जलीय पौधे, लार्वा, कीड़े, दलिया, मक्का या अंडे की जर्दी भी खाती है.

Read more :-

Goldfish ka Scientific Naam (Video)

Conclustio निष्कर्ष

आज इस लेख में हमने यह सिखा की गोल्डफिश का साइंटिफिक नाम क्या है तथा गोल्डफिश को हिंदी में क्या कहते है उम्मीद करता हु यह लेख आपको पसंद आया होगा अगर इस लेख से आपको कुछ नया सिखने को मिला हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरुर करे और उन्हें भी बताये की Goldfish ka Scientific Naam kya hai.

इस लेख के बारे में अगर कोई सवाल पूछना चाहते हो या कोई सुझाव देना चाहते हो तो हमें कमेंट करके जरुर बताये, आपके एक कमेंट से हमें कुछ नया सिखने का मौका मिलेगा.

Sharing Is Caring:

Leave a Comment